Amazing Facts about Ghost

भूत प्रेतों की बारे में हर किसी की अलग धारण होती है. जो भूत प्रेत देख चुके हैं उनके अलग सोच होती है, और जो नहीं देखे हैं उनकी अलग सोच. भूत-प्रेत लोककथा और संस्कृति में अलौकिक प्राणी होते हैं जो किसी मृतक की आत्मा से बनते हैं। ऐसा माना जाता है कि जिस किसी की मृत्यु से पहले कोई इच्छा पूर्ण नहीं हो पाती और वो पुनर्जन्म के लिये स्वर्ग या नरक नहीं जा पाते वो भूत बन जाते हैं। इसका कारण हिंसक मृत्यु हो सकती है, या मृतक के जीवन में अनिश्चित मामलों होते हैं या उनकी अंत्येष्टि उचित संस्कार से नहीं की गई होती हैं। भूत प्रेतों से जुड़े कुछ रोचक तथ्य. तो दोस्तों चलिए जानते है भूत प्रेत से जुडी ये बातें जो आपको पता होनी चाहिए.

  1. दुनिया के लगभग 80% लोग भूतों को Real ( वास्तविक ) मानते हैं.
  2. वैज्ञानिकों और डॉक्टरों का मानना है कि भूत – प्रेत जैसी चीजें मनुष्य के दिमाग की उपज हैं | ये मनुष्य के दिमाग की त्रुटियों (Errors ) के कारण होता हैं | वैज्ञानिक इन्हें Personality Disorder मानते है |
  3. भूत – प्रेतों का आभास होना मानसिक विकार के कारण भी होता हैं |
  4. आत्मा के तीन स्वरूप माने गए हैं – जीवात्मा, प्रेतात्मा और सूक्ष्मात्मा।
  5. क्या आपको पता हें की माउन्ट एवरेस्ट पर 200 से भी ज्यादा मृत शरीर पड़े हें.
  6. आत्माए कई रूपों में लोगो को नजर आती हें उनका कभी कोई एक आकर नहीं होता हें.
  7. अगर किसी व्यक्ति की असमय मृत्यु हो जाती हैं | तब भी आत्मा, शैतान का रूप ले लेती हैं.
  8. आत्माएँ और भूत – प्रेत उन जगहों की ओर ज्यादा आकर्षित होते हैं | जिन जगहों पर बहुत अधिक मृत्यु हुई हो |
  9. भुत – प्रेत का मतलब लोककथा, संस्कृति में अलोकिक जिव होते हें. जो किसी व्यक्ति के मरने पर उसकी आत्मा से बनते हें.
  10.  paranormal चीजो किसी विशेष वस्तु, किसी विशेष स्थान,किसी विशेष इंसान से जुडी रहने के कारण भी वे वही रहती हें.
  11.  रिसर्च में भी यह साबित हुआ हें की बच्चो और जानवरों को भुत ज्यादा दिखाई देते हें. इसकी वजह से बच्चो को भूतो के नाम से ही डर जाता हें.
  12.  दुनिया के महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आईंस्टीन ने भी भुत – प्रेतों के बारे में खोज की थी. उनका मानना था की एनर्जी कभी ख़त्म नहीं होती हें, बस शरीर बदल जाता हें.
  13.  हमारे मस्तिष्क की संवेदनशीलता के कारण हमारा मस्तिष्क हमारी आँखों द्वारा देखी गयी सभी चीजों में चेहरे ढूँढ़ने की काबिलियत के कारण भूत – प्रेतों को देखने की घटनाएँ संभव हो पाती हैं |
  14.  मनुष्य के बाल का 100 वां भाग और इस 100 वें भाग का 99 वां भाग आत्मा का सूक्ष्म रूप है | इस 99 वें भाग का 99 वां भाग प्रेत – आत्मा का सूक्ष्म रूप है |
  15.  वैज्ञानिक के अनुसार भूतो का दिखना optical illusion का परिणाम हें.
  16.  ऐसा माना जाता है कि इंसान मरने से पहले जो कपड़ें पहने रखता हैं | आत्मा बनने के बाद भी वह वही कपड़ें पहने रहता हैं |
  17.  ऐसा भी माना जाता है कि मृत व्यक्ति की आत्मा अपने स्वयं के शरीर के आस – पास चक्कर लगाती रहती हैं | और आत्मा शरीर के अन्दर बार – बार जाने की कोशिश करती रहती हैं |
  18.  माना जाता है कि व्‍हाइट हाउस में बहुत सारे भूत हैं। कहा जाता हे कि यहां के पूर्व की ओर कक्ष में अबीगली एडम की आत्‍मा भटकती है। उस जगह पर वह अपने कपड़े सुखाया करती.
  19.  बच्‍चों और जानवरों को सबसे ज्‍यादा भूत दिखते हैं। कुछ बच्‍चे, भूतों को अपना दोस्‍त बना लेते हैं; ऐसा माना जाता है।
  20.  भूत और आत्‍माएं कई रूपों में आती हैं उनका कभी कोई एक आकार नहीं होता है। कभी वो सफेद कपड़ों में, तो कभी साए के रूप में नज़र आती हैं।
  21.  हाल ही के रिसर्च में यह पता चला कि चीन के कार्यालय कर्मचारी को सबसे ज्यादा भूत दिखाई देते हैं. इनमें से 87% कर्मचारियों का मानना है कि भूत होते हैं. जबकि इनमें से ज्यादातर लोगों ने यहां तक दावा किया कि उन्होंने भूत को देखा और महसूस भी किया है.
  22.  लोगों का मानना है कि भूतो की उपस्थिति का एहसास सबसे पहले जानवरों को होता है. ऐसा होने पर जानवर अलग तरह से बर्ताव करने लगते हैं. आत्माएं कई रूपों में लोगों को नजर आती है. उनका कभी कोई एक आकार नहीं होता.
  23.  भूत – प्रेत जैसी सभी Paranormal चीजें इंसानों से ही ऊर्जा ( Energy ) ग्रहण करते हैं |
  24.  भूत – प्रेत और आत्माएँ कम प्रभावी या कम शक्तिशाली होते हैं | जबकि शैतान, दानव (Demons ), हैवान (Devil ) या जिन्न बहुत अधिक शक्तिशाली होते हैं |
  25.  भूत – प्रेत जैसी चीजों की मौजूदगी जहाँ पर होती हैं उस जगह पर आस – पास की अन्य जगहों के मुकाबले अधिक ठण्ड महसूस होती हैं | चाहे उसके आस – पास की जगह पर गर्मी ही क्यों ना हो | उस जगह पर सांस लेने में भी परेशानी होती हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here