Unknown Facts about Isro

  1. इसरो (ISRO) का पूरा नाम Indian Space Research Organization है, इसका हेडक्वाटर बेंगलूर में हैं.
  2. इसरो की स्थापना डॉ. विक्रम साराभाई ने कि थी सन 1969 में और वो भी स्वतंत्रता दिवस के दिन औए इसे भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का जनक माना जाता हैं.
  3. इसरो के पहले उपग्रह का नाम आर्यभट्ट है जो 19 अप्रैल 1975 को रूस की सहायता से लांच किया गया था.
  4. इसरो ने भारत के लिए 86 satellites लांच करने के अलावा ISRO ने अभी तक   21 अलग-अलग देशों के लिए भी 79 satellites लांच किए हैं.

  5.इसरो में लगभग 17 हजार कर्मचारी एवं वैज्ञानिक कार्यरत हैं.

  6. इसरो का बजट केंद्र सरकार के कुल खर्च का 0.34% और GDP का   0.08% है। यह कोई ज्यादा खर्च नही हैं.

  7.इसरो ने 1981 में APPLE Satellite को संसाधनों की कमी की वजह से बैलगाड़ी पर ले जाया गया था.

  8. इसरो ने गूगल अर्थ का देशी वर्जन भुवन बनाया है और ये वेब आधारित 3D 3D सेटेलाइट इमेजरी टूल हैं.

  9. इसरो चंद्रयान-1 की वजह से ही चाँद पर पानी खोजने में कामयाब रहा हैं.

  10. इसरो के पास दो सबसे प्रमुख रॉकेट (PSLV और GSLV ) है। इन्ही रॉकेटको उपग्रह पर भेजा जाता हैं.

  11. भारत में इसरो के कुल 13 सेंटर हैं.

  12.इसरो का मंगल मिशन आज तक का सबसे सस्ता है जो की सिर्फ 450 करोड़ मतलब की 12 रूपये प्रति किलोमीटर जो की एक ऑटो के बराबर हैं.

  13.  इसरो  ने एक ही यान से 104 उपग्रह भेजने का विश्व रिकॉर्ड बना रखा हैं.

  14. इसरो ने  पाकिस्तान के SUPARCO से आठ साल बाद शुरू हुआ था.

  15. इसरो के वैज्ञानिक श्री क्षेत्र धर्मस्थल मन्दिर में जाकर भगवान मंजुनाथस्वामी से अपने अभियानों की सफलता के लिए प्रार्थना करते हैं.

  16. इसरो दुनिया के बहुत से देशो को अपनी अंतरिक्ष क्षमता से व्यापारिक और अन्य कार्यो पर सहयोग कर रहा हैं.

  17.भारत मतलब की इसरो अपने पहले प्रयास में मंगल ग्रह पर पहुचने वाला एक मात्र देश ही. जिसमे अमेरिका 5 बार सवियत संघ कुल 8 बार और रुच, चीन, जैसे सभी देशो अपने पहले प्रयास में असफल रहे हैं.

  18. इसरो एक छोटी सी संस्था है, पर आप की जानकारी के लिए हम आपको बता दे की कुछ साल पहले इसरो ने 14 अरब रूपये की कमाई की हैं.

  19.इसरो में सबसे ज्यादा सिंगल साइंटिस्ट है, इन्होने कभी शादी नहीं की और पूरा जीवन इस संगठन को समर्पित कर दिया हैं.

  20. इसरो ने  2008-2009 में चंद्रयान-1 लोंस किया था जिसका बजट 350 करोड़ था जो की नासा से 8-9 गुना कम था. और इसी ने चाँद पर पानी की खोज की थी.

  21. इसरो की एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसका नाम है मिशन आदित्य। इसरो का उद्देश साल 2019- 20 में आदित्य नाम का एक उपग्रह सूर्य की कक्षा में भेजना हैं.

  22. इसरो द्वारा अब तक अंतरिक्ष में उपग्रह को स्थापित करने वाले अभियानों की खास बात यह है कि अभियान बहुत ही कम खर्चे में पूरे किए गए थे.

  23. इसरो की वाणिज्य विभाग है जो हमारी स्पीच अपनी को दूसरे देशों तक पहुंचाने का काम करती हैं.

 24.इसरो अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की दिशा में भी काम कर रहा है।इसके लिए एक ऐसा अंतरिक्ष यान बनाया जा रहा है जिस पर अंतरिक्ष यात्री को 7 दिनों तक पृथ्वी की कक्षा में रखने की क्षमता हैं.   25.  इसरो का अंतरिक्ष में लगातार बढ़ती उपलब्धियों के बाद अब इसरो शुक्र और बृहस्पति ग्रह पर भी अपना यान भेजने का विचार कर रहा हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here