अयोध्या राम मंदिर से जुड़े रोचक तथ्य

  1. प्राचीन भारतीय महाकाव्य, रामायण के अनुसार, राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। इसे राम जन्मभूमि या राम की जन्मभूमि के रूप में जाना जाता है।
  2. राम मंदिर के लिए मूल डिजाइन 1988 में अहमदाबाद के सोमपुरा परिवार द्वारा तैयार किया गया था।
  3. श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने मार्च 2020 में राम मंदिर के निर्माण का पहला चरण शुरू किया।
  4. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच फ़रवरी, 2020 को ‘देश के लिए बहुत ही महत्वपुर्ण’ राम मंदिर के निर्माण के लिए एक स्वायत्त ट्रस्ट श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की घोषणा लोकसभा में की थी.
  5. राम जन्मभूमि भारत के एक प्राचीन शहर अयोध्या में स्थित राम भूमि है जो हिंदुओं के लिए सात सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में से एक है।
  6. राम जन्मभूमि का अर्थ है वह स्थान जहां पर भगवान श्री राम का जन्म हुआ था, जो जो हिंदू देवता विष्णु के 7 वें अवतार हैं।
  7. अयोध्या भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में सरयू नदी के तट पर स्थित है, जिसे बेहद पवित्र माना जाता है।
  8. 1883 में हिंदुओं ने मंच पर एक मंदिर बनाने का प्रयास शुरू किया। जब प्रशासन ने उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं दी तो वे इस मामले को कोर्ट में ले गए।
  9. आपको बता दें कि 1853 मे निर्मोही अखाड़े से संबंधित सशस्त्र हिंदू तपस्वियों के एक समूह ने बाबरी मस्जिद स्थल पर कब्जा कर लिया और इस जगह का स्वामित्व होने का दावा किया। इसके बाद नागरिक प्रशासन 1855 में, मस्जिद परिसर को दो भागों में विभाजित किया, जिसमें से एक हिंदुओं के लिए, और दूसरा मुसलमानों के लिए।
  10.   बता दें कि जब 2003 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने अदालत के आदेशों पर राम के पास जाएगी। 1/3 भूमि इस्लामिक सुन्नी वक्फ बोर्ड और शेष 1/3 एक हिंदू धार्मिक संप्रदाय निर्मोही अखाड़ा को दी जाएगी।
  11.   6 दिसंबर 1992 को हिंदू राष्ट्रवादियों ने मस्जिद को ध्वस्त कर दिया, जिसके बाद कई सांप्रदायिक दंगे हुए, जिनमें 2,000 से अधिक लोग मारे गए।
  12.   1980 के दशक में विश्व हिंदू परिषद (VHP) और अन्य हिंदू राष्ट्रवादी समूहों और राजनीतिक दलों ने स्थल पर राम जन्मभूमि मंदिर बनाने का अभियान चलाया। राजीव गांधी सरकार ने हिंदुओं को पूजा करने के लिए इस जगह का इस्तेमाल करने करने की अनुमति दी।
  13.   अयोध्या शब्द का अर्थ होता है, जिससे युद्ध ना किया जा सके। अपराजेय।
  14.   कुछ इतिहासकारों के अनुसार अयोध्या की स्थापना गुप्त काल में स्कंदगुप्त द्वारा की गई थी। हालाँकि यह भी कहा जाता है कि उन्होंने अयोध्या का पुनर्विकास किया था।
  15.   बौद्ध तथा जैन धर्मग्रंथों, पाणिनी द्वारा रचित अष्टाध्यायी और पतंजलि द्वारा रचित ग्रंथों में साकेत नामक शहर का उल्लेख मिलता है। माना जाता है कि साकेत अयोध्या का ही दूसरा नाम था।
  16.   धार्मिक पुराणों के अनुसार अयोध्या नगरी भगवान विष्णु के सूर्दशन चक्र पर बसी हुई है। स्कंद पुराण के अनुसार अयोध्या ब्रह्मा, विष्णु और शंकर भगवान की पवित्र स्थली है।
  17.   धार्मिक कथाओं के अनुसार सूर्य के पुत्र वैवस्वत मनु महाराज ने अयोध्या की स्थापना की थी।
  18.   राम एक ऐतिहासिक महापुरुष थे और इसके पर्याप्त प्रमाण हैं। शोधानुसार पता चलता है कि भगवान राम का जन्म आज से 7128 वर्ष पूर्व अर्थात 5114 ईस्वी पूर्व को उत्तरप्रदेश के अयोध्या नगर में हुआ था।
  19.   अयोध्या का सबसे पहला वर्णन अथर्ववेद में मिलता है। अथर्ववेद में अयोध्या को ‘देवताओं का नगर’ बताया गया है, ‘अष्टचक्रा नवद्वारा देवानां पूरयोध्या’।
  20.   अयोध्या नगरी भगवान विष्णु के चक्र पर स्थित है। स्‍कंदपुराण के अनुसार अयोध्‍या भगवान विष्‍णु के चक्र पर विराजमान है।
  21.   1883 में हिंदुओं ने मंच पर एक मंदिर बनाने का प्रयास शुरू किया। जब प्रशासन ने उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं दी तो वे इस मामले को कोर्ट में ले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here